100+ Stories In Hindi Short | ये कहानियाँ बच्चों को अच्छे संस्कार और नैतिक मूल्यों को सिखाती हैं.

बच्चों के लिए कहानियाँ (stories in Hindi short)

Stories In Hindi Short- बच्चों के लिए कहानियाँ सिर्फ मनोरंजन का साधन नहीं होतीं, बल्कि वे जीवन की मूल बातें सिखाने का एक शक्तिशाली तरीका भी होती हैं।

कहानियाँ बच्चों को नैतिक मूल्यों, अच्छे संस्कार और जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में सिखाती हैं।

नैतिक शिक्षा वाली कहानियाँ (Moral Stories In hindi)

बच्चों के लिए नैतिक शिक्षा वाली कहानियाँ विशेष रूप से महत्वपूर्ण होती हैं। ये कहानियाँ बच्चों को अच्छे और बुरे के बीच अंतर करना सिखाती हैं। वे बच्चों को दया, करुणा, ईमानदारी, मेहनत और सहयोग जैसे गुणों को अपनाने के लिए प्रेरित करती हैं।

प्रेरणादायक कहानियाँ (inspirational stories)

बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियाँ भी बहुत महत्वपूर्ण होती हैं। ये कहानियाँ बच्चों को जीवन में आगे बढ़ने और सफल होने के लिए प्रेरित करती हैं। वे बच्चों को दिखाती हैं कि कठिन परिस्थितियों में भी सफलता प्राप्त की जा सकती है।

हिंदी कहानियाँ (story in Hindi smal)

हिंदी कहानियाँ बच्चों के लिए एक लोकप्रिय विकल्प हैं। हिंदी में कई अच्छी नैतिक शिक्षा वाली और प्रेरणादायक कहानियाँ उपलब्ध हैं।

ये कहानियाँ बच्चों को आसानी से समझ में आ जाती हैं और उन्हें प्रभावित करती हैं। बच्चों के लिए कहानियाँ उनके विकास के लिए आवश्यक हैं।

वे बच्चों को जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में सिखाती हैं और उन्हें एक बेहतर इंसान बनने में मदद करती हैं।

कुछ लोकप्रिय प्रकार की बच्चों की नैतिक कहानियों में शामिल हैं:

राजा-रानी की कहानियाँ: ये कहानियाँ बच्चों को अच्छे और बुरे के बीच अंतर करना सिखाती हैं। वे बच्चों को दिखाती हैं कि कैसे अच्छे लोगों को अंत में जीत मिलती है और बुरे लोगों को दंड मिलता है।

जानवरों की कहानियाँ: ये कहानियाँ बच्चों को दया, करुणा और सहयोग जैसे मूल्यों के बारे में सिखाती हैं। वे बच्चों को दिखाती हैं कि कैसे जानवर भी एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं।

भूतों की कहानियाँ: ये कहानियाँ बच्चों को कल्पना और साहस के बारे में सिखाती हैं। वे बच्चों को दिखाती हैं कि कैसे कठिन परिस्थितियों में भी साहस से काम लिया जा सकता है।

पक्षियों की कहानियाँ: ये कहानियाँ बच्चों को स्वतंत्रता और आत्म-विश्वास के बारे में सिखाती हैं। वे बच्चों को दिखाती हैं कि कैसे पक्षी अपने पंखों से आसमान में उड़ सकते हैं।

उम्मीद है कि आपको ये नैतिक कहानियाँ पसंद आएंगी।

#1 चालाक चिड़िया और झूठा बादल (The Clever Bird and the Lying Cloud)

एक गर्म गर्मी के दिन, चिड़िया अपने बच्चों को दाना तलाश रही थी. तभी आसमान में एक गुस्सैल बादल गरजते हुए बोला, “मैं अभी बारिश करूंगा, सबको भिगा दूंगा!” सब पक्षी घबरा गए.

पर छोटी चिड़िया हंसी और बोली, “नहीं, तुम बारिश नहीं करोगे. तुम्हारे पेट में एक भी बूंद नहीं है!” बादल शर्मिंदा होकर चला गया. अगले दिन असली बादल आया और खूब बारिश की. पक्षी खुश हो गए और चिड़िया को धन्यवाद दिया.

सीख: झूठ बोलने का कोई फायदा नहीं, सच बोलने से सभी का भरोसा मिलता है.

#2 फूलों का इंद्रजाल और लोभी तितली (The Magic of Flowers and the Greedy Butterfly)

एक खूबसूरत बगीचे में, रंग-बिरंगे फूल खुशबू फैलाते थे. एक चंचल तितली इधर-उधर मंडराती थी. वह फूलों से गुजरती, पर सिर्फ सबसे बड़े और सबसे चमकदार फूल का रस चुराती.

एक दिन, एक फूल ने रोकर कहा, “हम छोटे फूल भी तुम्हें खुशबू देते हैं, हमें भी थोड़ा प्यार दो!” तितली शर्मिंदा हुई और समझ गई कि हर किसी के पास देने को कुछ न कुछ होता है. उसने सभी फूलों का स्वाद लेना शुरू किया, और बगीचे की खुशबू और भी बढ़ गई.

सीख: हर किसी की अपनी खूबसूरती और महत्व होता है, सब का सम्मान करना चाहिए.

#3 खोया हार और मददगार चींटी (The Lost Necklace and the Helpful Ant):

stories in Hindi short

 

राधा खेलते-खेलते अपना पसंदीदा हार खो बैठी. वह रोने लगी. उसकी रोना सुनकर एक छोटी चींटी आई और पूछा, “क्या हुआ?” राधा ने सारी बात बताई.

चींटी ने सूंघी और राधा के साथ हार की तलाश करने निकल पड़ी. हवा में हार की महक का पीछा करते हुए, वह राधा को एक झाड़ी के नीचे ले गई, जहां हार चमक रहा था. राधा खुशी से झूम उठी और चींटी को धन्यवाद दिया.

सीख: छोटी मदद भी बड़ा काम कर सकती है, दूसरों की परेशानी में उनकी मदद करनी चाहिए.

#4 बहादुर गिलहरी और डरावना अजगर (The Brave Squirrel and the Scary Python):

stories in Hindi short
stories in Hindi short

 

एक घने जंगल में, गिलहरियां खुशहाल जीवन जीती थीं. एक दिन, एक विशाल अजगर आया और उनके दाना के पेड़ पर कब्जा कर लिया.

गिलहरियां डर गईं. पर छोटी गिलहरी शेरू बहादुर थी. उसने सभी को इकट्ठा किया और अजगर को डराने की योजना बनाई.

साथ मिलकर, गिलहरियां पेड़ पर दौड़ीं, चट्टीं और अजीब आवाजें निकालने लगीं. अजगर डर गया और भाग गया. गिलहरियां खुश होकर दाना खाया और शेरू का जयकार किया.

सीख: एकता में ताकत होती है, डर से नहीं हारना चाहिए, मिलकर हर समस्या का हल निकालना चाहिए.

#5  सच्चे दोस्त (The True Friends)

stories in Hindi short

एक छोटा गाँव था, जहाँ दो दोस्त रहते थे, रामू और श्याम. वे दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे. वे हमेशा एक-दूसरे की मदद करते थे. एक दिन, रामू के घर आग लग गई.

श्याम ने तुरंत मदद के लिए शोर मचाया. गाँव के सभी लोग दौड़ते हुए आए और आग बुझा दी. रामू का घर बच गया. रामू बहुत खुश था. उसने श्याम को धन्यवाद दिया.

एक और दिन, श्याम के घर चोरी हो गई. रामू ने श्याम की मदद की और उसकी चीज़ें वापस ढूंढ लीं. श्याम रामू का बहुत आभारी था.

रामू और श्याम का दोस्ती का बंधन बहुत मजबूत था. वे हमेशा एक-दूसरे के लिए खड़े थे.

सीख: सच्चे दोस्त हमेशा एक-दूसरे की मदद करते हैं. वे हमेशा एक-दूसरे के लिए खड़े होते हैं.

#6 . दयालु गधा (The Kind Donkey)

stories in Hindi short

एक जंगल में एक गधा रहता था. वह बहुत दयालु था. वह हमेशा दूसरों की मदद करता था. एक दिन, एक बूढ़ा आदमी जंगल में भटक गया था.

वह बहुत थका हुआ और भूखा था. गधे ने उसे देखा और उसकी मदद करने का फैसला किया. उसने बूढ़े आदमी को अपने कंधों पर बैठाया और उसे जंगल से बाहर ले आया.

बूढ़े आदमी गधे की मदद के लिए बहुत आभारी था. उसने गधे को धन्यवाद दिया और उसे एक सोने का सिक्का दिया.

गधा बहुत खुश था. उसने सोने के सिक्के को अपने मालिक को दिया. मालिक ने गधे की दयालुता के लिए उसे बहुत सराहा.

सीख: दयालुता हमेशा पुरस्कृत होती है.

#7  सच्चा और झूठा (The Truthful and the Liar)

एक समय की बात है, एक शहर में दो दोस्त रहते थे. एक का नाम सच्चा था और दूसरे का नाम झूठा. सच्चा हमेशा सच बोलता था, जबकि झूठा हमेशा झूठ बोलता था.

एक दिन, दोनों दोस्त जंगल में घूम रहे थे. अचानक, उन्होंने एक शेर को देखा. सच्चा ने झूठे से कहा, “शेर हमारे पीछे है. हमें भागना चाहिए.” झूठा ने कहा, “तुम डरपोक हो. शेर हमारे पीछे नहीं है.”

सच्चा ने झूठे से कहा, “तुम झूठ बोल रहे हो. शेर हमारे पीछे है. देखो, वह हमें देख रहा है.”

झूठा ने कहा, “मैं तुम्हारी बात नहीं मानता. शेर हमारे पीछे नहीं है.”

तभी, शेर दहाड़ता हुआ उनके पास आया. झूठा डर के मारे भाग गया. सच्चा शेर के सामने खड़ा रहा. शेर ने सच्चा को नहीं मारा, क्योंकि उसने सच बोला था.

सीख: सच हमेशा जीतता है. झूठ से हमेशा बचना चाहिए.

#8. स्वार्थी और दयालु (The Selfish and the Kind)

stories in Hindi short

एक बार की बात है, एक शहर में दो बच्चे रहते थे. एक का नाम स्वार्थी था और दूसरे का नाम दयालु. स्वार्थी हमेशा दूसरों के बारे में नहीं सोचता था.

वह हमेशा अपनी ही बात मानता था. दयालु हमेशा दूसरों की मदद करता था. वह हमेशा दूसरों के बारे में सोचता था.

एक दिन, दोनों बच्चे जंगल में घूम रहे थे. अचानक, उन्होंने एक बूढ़ी औरत को देखा. बूढ़ी औरत बहुत थकी हुई और भूखी थी. स्वार्थी ने कहा,

“मैं उसे मदद नहीं करूंगा. यह मेरी समस्या नहीं है.” दयालु ने कहा, “मैं उसे मदद करूंगा. वह मेरी मदद के लायक है.”

दयालु ने बूढ़ी औरत को अपने घर ले गया और उसे खाना और पानी दिया. बूढ़ी औरत दयालु की मदद के लिए बहुत आभारी थी. उसने दयालु को आशीर्वाद दिया.

स्वार्थी और दयालु दोनों घर लौट आए. स्वार्थी को बहुत बुरा लग रहा था. उसने सोचा कि वह दयालु की तरह दूसरों की मदद करेगा.

सीख: दूसरों की मदद करना

#9 मेहनती और आलसी (The Hardworking and the Lazy)

stories in Hindi short

एक बार की बात है, एक गाँव में दो किसान रहते थे. एक किसान बहुत मेहनती था. वह सुबह जल्दी उठकर काम करता था और देर रात तक काम करता था. दूसरा किसान बहुत आलसी था. वह सुबह देर से उठता था और जल्दी ही थक जाता था.

एक दिन, दोनों किसानों ने एक-दूसरे से कहा, “हम एक प्रतियोगिता करेंगे. हम देखेंगे कि कौन अधिक फसल उगा सकता है.”

मेहनती किसान ने बहुत मेहनत की. वह सुबह जल्दी उठकर काम करता था और देर रात तक काम करता था. आलसी किसान ने कुछ भी नहीं किया. वह बस घर पर बैठा रहता था और आराम करता था.

एक साल बाद, मेहनती किसान की फसल बहुत अच्छी हुई. आलसी किसान की फसल बहुत खराब हुई.

मेहनती किसान ने जीत हासिल की. वह बहुत खुश था. उसने आलसी किसान को समझाया कि मेहनत से ही सफलता मिलती है.

सीख: मेहनत से ही सफलता मिलती है. आलस्य से कभी सफलता नहीं मिलती है.

#10 एक सुनसान सड़क (Stories in Hindi short)

stories in Hindi short

एक सुनसान सड़क पर एक अकेला आदमी चल रहा था। सड़क के दोनों ओर ऊँचे-ऊँचे पेड़ खड़े थे। पेड़ों के बीच से हल्की-हल्की हवा बह रही थी। हवा में पेड़ों की पत्तियों की सरसराहट सुनाई दे रही थी।

वह आदमी सड़क पर अकेला था। चारों ओर सन्नाटा था। सिर्फ हवा की आवाज ही सुनाई दे रही थी। आदमी को थोड़ा डर लग रहा था। उसने अपने कदमों की आवाज पर ध्यान देना शुरू कर दिया।

आदमी धीरे-धीरे चल रहा था। वह अपने आसपास के वातावरण को महसूस कर रहा था। हवा में एक अजीब सी खुशबू थी। जैसे किसी फूल की खुशबू हो।

आदमी ने देखा कि सड़क के किनारे एक छोटा सा मंदिर था। मंदिर के दरवाजे खुले थे। आदमी मंदिर में गया और अंदर बैठ गया।

मंदिर में एक शांत माहौल था। आदमी को थोड़ा अच्छा महसूस हुआ। उसने अपनी आँखें बंद कर लीं और कुछ देर तक बैठा रहा।

कुछ देर बाद, आदमी ने अपनी आँखें खोलीं। उसने देखा कि मंदिर में एक साधू बैठे हुए हैं। साधू बहुत बूढ़े थे। उनके चेहरे पर एक उदार मुस्कान थी।

Stories In Hindi Short? 

आदमी ने साधू को प्रणाम किया। साधू ने आदमी को आशीर्वाद दिया।

आदमी ने साधू से कहा, “मैं बहुत घबरा रहा था। मुझे अकेले सड़क पर चलने में डर लग रहा था।”

साधू ने कहा, “डरना नहीं चाहिए। डर मन का एक नकारात्मक भाव है। इससे हमें नुकसान ही होता है।”

साधू ने आदमी को डर पर काबू पाने के लिए कुछ मंत्र बताए। आदमी ने साधू के बताए मंत्रों का अभ्यास किया।

कुछ दिनों बाद, आदमी फिर से उसी सुनसान सड़क पर गया। इस बार, वह डर महसूस नहीं कर रहा था। वह अपने आप को शांत और नियंत्रित महसूस कर रहा था।

उस आदमी ने देखा कि सड़क के दोनों ओर के पेड़ों में फूल खिले हुए थे। फूलों की सुगंध पूरे वातावरण में फैली हुई थी।

उसे  को लगा कि जैसे फूलों ने उसे डर से बचाया है। उसने फूलों को प्रणाम किया और आगे बढ़ गया।

आदमी अब किसी भी सुनसान सड़क पर बिना किसी डर के चल सकता था। वह जानता था कि डर पर काबू पाना संभव है।

सीख:

डर एक नकारात्मक भाव है। इससे हमें नुकसान ही होता है।

डर पर काबू पाने के लिए हमें अभ्यास की आवश्यकता होती है।

प्रकृति हमें शांत और नियंत्रित महसूस करने में मदद कर सकती है

#11 दयालु चिड़ी और गुस्सैल चींटी (Stories in Hindi short)

stories in Hindi short

एक पेड़ पर एक चिड़ी का घोंसला था. एक दिन, बरसात में ज़ोर से छींटे पड़ने लगे. बगल में रहने वाली छोटी चींटी बुरी तरह भीग रही थी. चिड़ी ने उसे देखा और सोचा,

“अगर यह छोटी चींटी भीग गई तो ज़रूर बीमार पड़ जाएगी.” चिड़ी दयालु थी, उसने अपने पंख फैला दिए और चींटी को अपने नीचे आश्रय दे दिया.

बरसात रुकने के बाद चींटी ने चिड़ी को धन्यवाद दिया और कहा, “तुम बहुत दयालु हो! तुमने मेरी जान बचाई.” चिड़ी ने हंसते हुए कहा, “कभी किसी की मदद करने में संकोच नहीं करना चाहिए, इससे हमें और दूसरों दोनों को खुशी मिलती है.” 

सीख: दूसरों की मदद करना एक अच्छा गुण है. इससे न सिर्फ दूसरों का भला होता है, बल्कि हमें भी अच्छा महसूस होता है.

#12 चालाक खरगोश और घमंडी लोमड़ी (Stories In Hindi Short)

stories in Hindi short

एक जंगल में एक चालाक खरगोश रहता था. एक दिन उसकी मुलाकात एक घमंडी लोमड़ी से हुई. लोमड़ी बोली, “मैं जंगल की सबसे तेज धावक हूँ.” खरगोश ने मुस्कुराते हुए कहा,

“शायद हो, लेकिन हम दौड़ लगाकर देख सकते हैं.” लोमड़ी सहमत हो गई. दौड़ शुरू हुई, लोमड़ी तेज़ी से आगे बढ़ी,

लेकिन खरगोश जानता था कि वह उससे सीधा हार नहीं सकता. वह जंगल के रास्तों से ज़िग-ज़ैग दौड़ने लगा, कभी पेड़ों के पीछे छिपता, कभी उछलकर कहीं और चला जाता.

आखिर में, लोमड़ी थक-हारकर गिर पड़ी, जबकि खरगोश हंसते हुए फिनिश लाइन पर पहुंच गया. लोमड़ी को गुस्सा आया, लेकिन उसने खरगोश की बुद्धि और धैर्य को मान लिया.

सीख: बुद्धि और चालाकी से, छोटे भी बड़ों को हरा सकते हैं. घमंड अच्छा नहीं, अपनी कमियों को स्वीकारना ज़रूरी है.

#13 मिठाई का टुकड़ा और दोस्ती

एक घर में दो चिड़िया एक ही पिंजरे में रहती थीं. दोनों बहुत अच्छी दोस्त थीं. एक दिन, मालिक ने उन्हें एक स्वादिष्ट मिठाई का टुकड़ा दिया.

दोनों उसे लेना चाहती थीं. एक चिड़िया ने सोचा, “मैं यह टुकड़ा अकेले खाऊंगी, मेरी दोस्त को ज़रूरत नहीं है.” लेकिन दूसरी चिड़िया ने उसे रोक दिया और कहा,

“आधा-आधा कर लेते हैं, तभी तो मज़ा आएगा.” पहली चिड़िया को एहसास हुआ कि दोस्ती से ज़्यादा ज़रूरी कुछ नहीं है. उन्होंने आधा-आधा टुकड़ा लेकर खाया और दोनों बहुत खुश हुईं.

सीख: दोस्ती बहुत कीमती है, दोस्तों के साथ मिलकर खुशियाँ बांटने से आनंद दोगुना हो जाता है.

#14 पहेली के राजा और झूठ बोलने वाला लड़का 

stories in Hindi short

एक राज्य में एक ऐसा राजा था जो पहेलियां सुलझाने का बहुत शौकीन था. एक दिन, एक लड़का आया और उसने राजा के सामने एक पहेली रखी.

लड़के ने झूठ बोला कि वह दुनिया का सबसे होशियार लड़का है. राजा ने कई तरीके आजमाए लेकिन पहेली का हल नहीं निकाल पाया. आखिर में, एक छोटी लड़की आगे आई और उसने सरलता से पहेली सुलझा दी.

राजा को गुस्सा आया कि लड़के ने झूठ बोला, उसने उसे नसीहत दी कि कभी झूठ नहीं बोलना चाहिए.

सीख: झूठ बोलना बुरी आदत है, इससे लोगों का विश्वास नहीं मिलता और सच सामने आने पर शर्म तभी होती है.

#15 मेहनती चींटी और आलसी कबूतर (Stories in Hindi short)

एक जंगल में एक चींटी और एक कबूतर रहते थे. चींटी बहुत मेहनती थी, वह दिन भर मेहनत करके भोजन इकट्ठा करती थी. कबूतर आलसी था,

वह सिर्फ खाना खाता और सोता रहता था. एक दिन, चींटी ने देखा कि कबूतर भूखा है. उसने कबूतर को अपने साथ भोजन इकट्ठा करने के लिए कहा.

कबूतर ने मना कर दिया और कहा, “मैं इतनी मेहनत नहीं कर सकता, मैं तो सिर्फ खाना खाना और सोना चाहता हूँ.”

चींटी ने उसे समझाया कि मेहनत करना ज़रूरी है, इससे हमें भोजन मिलता है और हम स्वस्थ रहते हैं. कबूतर ने चींटी की बात मान ली और उसके साथ भोजन इकट्ठा करने लगा. कुछ दिनों बाद, कबूतर भी चींटी की तरह मेहनती हो गया. वह भी दिन भर मेहनत करके भोजन इकट्ठा करता था.

सीख: मेहनत करना ज़रूरी है, इससे हम सफल होते हैं और दूसरों की मदद भी कर सकते हैं.

#16 सच्चाई और झूठ की कहानी (Stories in Hindi short)

एक दिन, एक आदमी जंगल में घूम रहा था. रास्ते में उसे एक सच्चाई और झूठ का पेड़ मिला. पेड़ के नीचे एक आदमी बैठा था. उसने आदमी से पूछा,

“सच्चाई और झूठ में से कौन बेहतर है?” आदमी ने जवाब दिया, “सच्चाई हमेशा बेहतर होती है. सच्चाई हमें सही रास्ता दिखाती है, जबकि झूठ हमें भ्रमित कर सकता है.”

सीख: सच्चाई हमेशा बेहतर होती है. सच्चाई से हमें हमेशा फायदा होता है, जबकि झूठ से नुकसान होता है.

#17 सादगी और दिखावा की कहानी (Stories in Hindi short)

एक गाँव में एक साधारण किसान रहता था. वह बहुत मेहनती था और ईमानदारी से अपना काम करता था. एक दिन, एक शहर का व्यापारी उस गाँव में आया.

उसने किसान को देखा तो उसे बहुत घमंड आया. उसने सोचा कि वह किसान से बहुत अमीर है और उसे दिखाना चाहिए कि वह कितना अमीर है. व्यापारी ने किसान को महंगे कपड़े और गहने दिए और कहा, “इन कपड़ों और गहनों को पहनकर तुम बहुत सुंदर लगोगे.”

किसान ने व्यापारी की बात मान ली और महंगे कपड़े और गहने पहन लिए. लेकिन जब वह लोगों के सामने गया तो लोगों ने उसे पहचान नहीं पाए. उन्होंने सोचा कि वह कोई नया व्यक्ति है. किसान को बहुत बुरा लगा. उसने महसूस किया कि सादगी में ही सुंदरता है.

सीख: सादगी में ही सुंदरता है. दिखावा करना अच्छा नहीं है.

#18 दो पक्षी और एक सांप की कहानी Story in Hindi Small

एक जंगल में दो पक्षी रहते थे. वे बहुत अच्छे दोस्त थे. एक दिन, वे जंगल में उड़ रहे थे. तभी उन्हें एक सांप दिखाई दिया. सांप ने पक्षियों को देखा और उन पर हमला करने की कोशिश की. पक्षी बहुत डर गए. उन्होंने सोचा कि वे सांप से कैसे बच सकते हैं.

एक पक्षी ने दूसरे पक्षी से कहा, “तुम मेरे ऊपर बैठ जाओ, मैं तुम्हें सांप से बचाऊंगा.” दूसरा पक्षी पहले पक्षी के ऊपर बैठ गया. पहले पक्षी ने अपने पंखों को फैला दिए और सांप को दूर भगा दिया. दूसरे पक्षी को बहुत खुशी हुई. उसने पहले पक्षी को धन्यवाद दिया.

सीख: दोस्ती बहुत कीमती है. दोस्त हमेशा एक-दूसरे की मदद करते हैं.

#19 दयालु लड़का और भूखी कुतिया की कहानी 

एक गाँव में एक दयालु लड़का रहता था. उसका नाम सोहन था. सोहन हमेशा दूसरों की मदद करता था. एक दिन, सोहन जंगल में घूम रहा था. तभी उसे एक भूखी कुतिया दिखाई दी.

कुतिया बहुत कमजोर थी और उसे चलने में भी मुश्किल हो रही थी. सोहन को कुतिया पर दया आ गई. उसने कुतिया को अपने साथ घर ले आया और उसे खाना खिलाया. कुतिया ने सोहन की मदद को बहुत सराहा. 

सीख: दूसरों की मदद करना अच्छा गुण है. इससे हमें और दूसरों दोनों को खुशी मिलती है.

#20 चंचल चिड़िया और जादुई बीज Story in Hindi Small 

एक बार जंगल में, छोटी सी गुलाब-सी चिड़िया रहती थी, जिसका नाम चि-चि था. चि-चि बहुत चंचल थी और हमेशा पूरे जंगल में उड़-फिरकर मस्ती करती थी.

एक दिन, जंगल की बूढ़ी तोता ने उसे कुछ चमचमाते बीज दिए. “ये जादुई बीज हैं, उन्हें मिट्टी में लगाओ और देखो क्या होता है,” तोता ने कहा. चि-चि ने खुशी-खुशी बीजों को अपने घर के पास के गड्ढे में लगाया और हर रोज उन्हें पानी दिया.

कुछ दिनों में, छोटे-छोटे, हरे पौधे निकले और हफ्ते भर में तो वे खूबसूरत गुलाब के फूलों में बदल गए. सारा जंगल चि-चि के फूलों की खूबसूरती देखने आया. सब जानवर उसकी तारीफ करने लगे. चि-चि बहुत खुश थी.

सीख: अच्छे कामों का फल मीठा होता है. दूसरों की खुशी में ही अपनी खुशी होती है.

#21 मेहनती मधुमक्खी और आलसी घोंघा Story in Hindi Small 

जंगल की एक धूप खीली घास पर, मधुमक्खी मधु  घोंघा धीरे-धीरे घास पर रेंगता हुआ. “नमस्ते मधुमक्खी, तुम इतनी मेहनत क्यों कर रही हो?

” घोंघे ने पूछा. “मैं सर्दी के लिए शहद इकट्ठा कर रही हूँ,” मधुमक्खी ने जवाब दिया. “सर्दी क्या होती है?” घोंघे ने पूछा, जिसने कभी ठंड नहीं महसूस की थी.

मधुमक्खी ने उसे सर्दी के बारे में बताया और आने वाले कठिन समय के लिए कैसे तैयारी करनी चाहिए. घोंघे ने उसकी बात सुनी, पर वह फिर से अपना धीमा सफ़र शुरू कर दिया, सोचता हुआ कि सर्दी आने तक बहुत समय है.

कुछ महीने बाद, जब सर्दी आई, घोंघा अपने खाली गोले में ठंड से काँप रहा था. वह भूखा और अकेला था. दूसरी ओर, मधुमक्खी और उसकी साथी मधुमक्खियाँ गर्म, आरामदेह छत्ते में थीं, अपने मीठे शहद का आनंद ले रही थीं. उन्हें सर्दी का कोई डर नहीं था.

सीख: मेहनत और तैयारी जीवन में बहुत ज़रूरी हैं. आलस्य से दुख ही मिलता है.

#22 पानी की एक बूँद और छोटी नदी Mini-Stories in Hindi 

एक गर्म गर्मी के दिन, सूरज चमक रहा था और ज़मीन सूखी पड़ी थी. एक पत्ते पर बैठी एक छोटी सी पानी की बूँद गर्म हवा से डर रही थी. उसे लगा कि वह जल्द ही सूख कर गायब हो जाएगी. तभी,

उसने एक छोटी नदी को देखा, जो हँसते हुए आगे बढ़ रही थी. “मुझे डर लगता है,” बूँद ने चिंता से कहा. “मुझे लगता है मैं सूख जाऊंगी.

” नदी ने धीरे से कहा, “मेरी छोटी सी दोस्त, डरो मत. तुम अकेली नहीं हो. मेरा पानी भी छोटी-छोटी बूंदों से मिलकर बना है. जब तुम नदी में मिलोगी, तो तुम ज़्यादा मज़बूत और बड़ी बनोगी, साथ ही हम सब मिलकर सूखी ज़मीन को सींचेंगे.

” बूँद ने सोचा और फिर नदी में कूद पड़ी. वह तुरंत ही कई और बूंदों से मिल गई और नदी का हिस्सा बन गई. साथ में, वे सूखी ज़मीन को हरा-भरा कर रही थीं.

सीख: दोस्तों और मिलजुलकर काम करने से हम कमज़ोरियों को दूर कर सकते हैं और कुछ

#23 दयालु बन्दर और भूखा साँप Mini-Stories in Hindi 

एक जंगल में, एक दयालु बन्दर रहता था. वह हमेशा दूसरों की मदद करने के लिए तैयार रहता था. एक दिन, उसने एक भूखे साँप को देखा,

जो भोजन की तलाश में भटक रहा था. बन्दर ने साँप को एक टुकड़ा फल दिया. साँप बहुत खुश हुआ और उसने बन्दर का शुक्रिया अदा किया.

कुछ दिनों बाद, बन्दर एक पेड़ पर बैठा था, तभी एक शिकारी आया और उसे गोली मारने लगा. साँप ने बन्दर को देखा और तुरंत उसके बचाव में आया. उसने शिकारी पर हमला किया और उसे भगा दिया. बन्दर साँप के साहस और मदद के लिए बहुत आभारी था.

सीख: दयालुता हमेशा पुरस्कृत होती है. हमें हमेशा दूसरों की मदद करने के लिए तैयार रहना चाहिए, भले ही वे हमारे शत्रु हों.

#24 मेहनती चूहा और आलसी बिल्ली Mini-Stories in Hindi 

एक बार एक चूहा और एक बिल्ली एक साथ एक घर में रहते थे. चूहा बहुत मेहनती था और वह हमेशा काम करता रहता था. बिल्ली आलसी थी और वह हमेशा सोती रहती थी.

एक दिन, घर के मालिक ने घर छोड़ दिया और छुट्टियों पर चले गए. चूहे ने सोचा कि यह मौका है अपने लिए कुछ अच्छा करने का.

उसने घर की साफ-सफाई की और उसे अच्छी तरह से सजाया. उसने घर के मालिक के लिए एक पत्र भी लिखा, जिसमें बताया कि वह घर की देखभाल कर रहा है.

जब घर के मालिक वापस आए, तो उन्हें घर की हालत देखकर बहुत खुशी हुई. उन्होंने चूहे की मेहनत की सराहना की और उसे एक बड़ा इनाम दिया.

सीख: मेहनत हमेशा रंग लाती है. आलस्य से कभी भी कुछ अच्छा नहीं होता है.

#25 दोस्ती की ताकत Mini-Stories in Hindi 

एक बार एक जंगल में दो दोस्त रहते थे, एक बंदर और एक गिलहरी. वे दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे. वे एक साथ खेलते थे, एक साथ खाते थे और एक दूसरे की मदद करते थे.

एक दिन, एक शिकारी जंगल में आया. उसने बंदर को देखा और उसे मारने के लिए तैयार हुआ. गिलहरी ने बंदर को देखा और तुरंत उसकी मदद के लिए आया. उसने शिकारी पर हमला किया और उसे भगा दिया. बंदर गिलहरी के साहस से बहुत खुश हुआ और उसे गले लगा लिया.

सीख: दोस्ती की ताकत बहुत बड़ी होती है. दोस्त हमेशा एक दूसरे की मदद के लिए तैयार रहते हैं.

#26  सच्चाई की जीत Mini-Stories in Hindi 

एक बार एक राजा था, जो बहुत ही अन्यायी और क्रूर था. वह अपने प्रजा पर अत्याचार करता था. प्रजा राजा से बहुत परेशान थी.

एक दिन, एक गरीब किसान राजा के दरबार में गया. उसने राजा से कहा कि उसके खेत में एक चोर ने चोरी की है. राजा ने किसान की बात नहीं सुनी और उसने किसान को जेल में डाल दिया.

किसान का बेटा राजा से मिलने के लिए दरबार में गया. उसने राजा से कहा कि वह अपने पिता को जेल से छुड़ा दे. राजा ने किसान के बेटे से कहा कि वह सबूत दिखाए कि उसके पिता ने चोरी की है.

किसान का बेटा अपने खेत में गया और उसने चोर को पकड़ा. चोर ने राजा के सामने स्वीकार किया कि उसने चोरी की है. राजा को अपने किए पर बहुत पछतावा हुआ. उसने किसान को माफ़ कर दिया और उसे जेल से छुड़ा दिया.

सीख: सच्चाई की हमेशा जीत होती है. झूठ कभी जीत नहीं पाता है.

27 ईमानदारी की जय Mini-Stories in Hindi 

एक बार एक छोटे से गाँव में एक ईमानदार युवक रहता था. उसका नाम राजू था. राजू हमेशा सत्य बोलता था और दूसरों की मदद करता था.

एक दिन, राजू जंगल से लौट रहा था, तभी उसने एक पेड़ के नीचे एक थैला पड़ा देखा. थैले में बहुत सारा सोना था. राजू को पता था कि वह सोना किसी और का है, इसलिए उसने उसे अपने पास नहीं रखा. उसने थैला पुलिस को सौंप दिया.

28 सहयोग की शक्ति Mini-Stories in Hindi 

एक बार एक गाँव में एक किसान रहता था. उसका नाम राम था. राम बहुत मेहनती था, लेकिन वह बहुत गरीब था. वह अपने खेत में अकेला काम करता था, लेकिन वह हमेशा फसल की अच्छी पैदावार लेता था.

एक दिन, एक तूफान आया और राम के खेत में से एक पेड़ गिर गया. राम पेड़ को हटाने में असमर्थ था. तभी, उसके पड़ोसी उसकी मदद के लिए आए. उन्होंने मिलकर पेड़ को हटा दिया.

राम अपने पड़ोसियों की मदद से बहुत खुश हुआ. उसने उन्हें धन्यवाद दिया और कहा कि वह उनका हमेशा आभारी रहेगा.

सीख: सहयोग की शक्ति बहुत बड़ी होती है. मिलकर काम करने से हम मुश्किल कामों को भी आसानी से कर सकते हैं.

29 परोपकार की महिमा Mini Stories in Hindi

एक बार एक नगर में एक धनी व्यापारी रहता था. उसका नाम मोहन था. मोहन बहुत दयालु और परोपकारी था. वह हमेशा दूसरों की मदद करता था.

एक दिन, एक गरीब किसान मोहन के पास आया और उसने कहा कि उसके खेत में आग लग गई है. मोहन तुरंत किसान की मदद के लिए गया. उसने किसान के खेत में आग बुझाई.

मोहन की मदद से किसान का खेत बच गया. किसान मोहन की मदद के लिए बहुत आभारी था. उसने मोहन को धन्यवाद दिया और कहा कि वह मोहन के आभार का कभी भुगतान नहीं कर पाएगा.

सीख: परोपकार की महिमा अपरंपार है. परोपकार करने से हमें खुशी और संतोष मिलता है.

LEARN MORE –

Conclusion- 

ये सभी  Moral Stories 5-वर्षीय बच्चों के लिए उपयुक्त हैं. ये कहानियाँ बच्चों को अच्छे संस्कार और नैतिक मूल्यों को सिखाती हैं.

ये कहानियाँ सरल और रोचक भाषा में लिखी गई हैं, जो बच्चों के लिए आसानी से समझ में आ जाती हैं. मुझे उम्मीद है कि ये कहानियाँ आपके बच्चों को पसंद आएंगी

 

Leave a Comment